logo

Whatsapp Number: +91-90416-06444

सब कुछ लूटा दिया तेरी मुहब्बत में

कमबख्त आसु ही ऐसे है की जो खत्म नही होते है

देर ना करना हो सके तो वक्त पर लोट आना

वरना सांसकी जगह राख मिलेगी

मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है

बोला साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है

अच्छा हुआ तूने ठुकरा दिया मुझे

प्यार चाहिए था तेरा एहसान नही

Bahut kuch badla he mene apne aap me lekin

Tumhe vo toot kar chahne ki aadat ab tak nahi badli

हमनेँ पूछाँ कैसे निकलती है जान एक पल मे

उसने चलते चलतें मेरा हाथ छोड दिया

ना जाने क्यो दिन निकलते ही उदास हो जाता हुँ

महसूस होता है कि कोई भूल रहा है हमे धीरे-धीरे

सुनो एक वादा करोगी मुझसे क्या तुम उन पलो को हमेशा संभाल के रखोगी

जिन पलो में तुम मेरे साथ मुस्कुराई थी

Yeh Sab Rastay Key Saathi Thy,Inhen Akhir Bicharna Tha

Chalo Ab Ghar Chalain Mohsin,Bhat Awargi Kar Li..

उसकी दर्द भरी आँखों ने जिस जगह कहा था अलविदा

आज भी वही खड़ा है दिल उसके आने के इंतज़ार में

कोई हमे भी सिखा दो ये लफ्जों से खेलना

दर्द हमारे पास भी बेहिसाब है

रिश्ता दिल से होना चाहिए शब्दों से नहीं

नाराजगी शब्दों में होनी चाहिए दिल में नहीं

Qurbaan Jau Uss Shaks Ke Haatho Ki Lakiro Par…

Jisne Tujhe Maanga B Nhi Or Apna Bana Liya…

यही हालात इब्तदा से रहे लोग हमसे ख़फ़ा ख़फ़ा से रहे

बेवफ़ा तुम कभी न थे लेकिन ये भी सच है कि बेवफ़ा से रहे

हमारी कद्र उनको होगी तन्हाईयो में एक दिन अभी

तो बहुत लोग हैं उनके पास दिल्लगी करने को

Hum me to khair himmat hai itna dukh sehne ki

Tum itna dukh dete ho thak to nahi jate

आपकी सादगी पे क़त्ल-ऐ-आम हुवे जाते है

तब क्या क़यामत होगी जब आप सवंर कर आओगे

er kasz

ये तेरी मेरी ही नहीं इस जहाँ में समझ ले

ईश्क की दास्तां हर एक अधूरी है

अभी से क्यों छलक आये तुम्हारी आँख में आंसू

अभी छेड़ी कहाँ है दास्ताने जिन्दगी मैंने

दिल से बेहतर तो रावण है

साल में एक ही दिन जलता

Load More
Top