logo

Whatsapp Number: +91-90416-06444

तुम रख ना सकोगे मेरा तौफ़ा संभालकर

वरना मैं अभी दे दूं जिस्म से रूह निकाल कर...

बख्शे हम भी न गए बख्शे तुम भी न जाओगे

वक्त जानता है हर चेहरे को बेनकाब करना

नहीं चाहिए तेरे इश्क की दुकान से कुछ भी,

हर चीज़ मे मिलावट है बेवफ़ाई की.!

अगर बेवफाओं की अलग ही दुनिया होती

तो मेरी वाली वहाँ की रानी होती..!!

=RPS

मुस्कुरा देता हूँ अक्सर देखकर पुराने खत तेरे,

तू झूठ भी कितनी सच्चाई से लिखती थी...!

सब तेरी मोहब्बत की इनायत है

वरना मैं क्या मेरा दिल क्या मेरी शायरी क्या

er kasz

Na jaane kiske muqaddar mein wo likhi hogi

Magar ye sach hai k umeedwaar main bhi hoon

दुश्मन भी दुआ देते हैं मेरी फितरत ऐसी है

दोस्त ही दगा देते हैं मेरी किस्मत ऐसी है

er kasz

मत करवाना इश्क ए दस्तूर हर किसी को ए ख़ुदा.

हर किसी में जीते जी मरने की ताक़त नहीं होती...

उसे अपना कहने की बड़ी तमन्ना थी दिल मे.
इससे पहले बात लबो पर आती वो गैर हो गये...

मत डर ऐ बेवफा खुदा तेरी बेवफाई का हिसाब नही करेगा

हम खुद को बेवफा और,तुम्हे इश्क की मिशाल बताकर आये है

किस तरह खत्म करें उन से रिश्ता
जिन्हें सिर्फ सोचते हैं तो पूरी कायनात भूल जाते हैं

एहसास ए मुहब्बत के लिए बस इतना ही काफी है

तेरे बगैर भी हम तेरे ही रहते है

गुलाम हूँ अपने घर के संस्कारो का… वरना

लोगो को उनकी औकात दिखाने का हुनर आज भी रखता हूँ

er kasz

जहा हर बार अपनी बातो पर सफाई देनी पड़ जाए.

वो रिश्ते कभी गहरे नही होते ..!!

हम तो इश्क़ के नशे में उनको खुदा बना डाले

होश तो तब आया जब उन्होंने कहा की खुद किसी एक का नहीं होता

अब यूँ भी न परखो मेरी चाहत की गहराइयों को

बस यूँ समझ लो हर रोज़ तुम्हारा नाम लिखकर आखों से लगा लेते हैं

मेरे सब्र का इंतेहा क्या पूछते हो.

वो मुझ से लिपट कर रोई भी तो किसी और के लिए.

मैं कोई छोटी सी कहानी नहीं था

बस पन्ने ही जल्दी पलट दिए तुम नें

किसी के दिल में क्या छुपा है ये बस खुदा ही जानता है

दिल अगर बेनकाब होता तो सोचो कितना फसाद होता

Load More
Top